a man reading in computer and title is displayed 'history of computer in hindi'

History of Computer in Hindi

Computer History: दोस्तों computer शब्द का उत्पत्ति latin word से हुआ तो है. मगर इसका भी कई परजाइ है. इसका नाम में इतिहास छुपा हुआ है कंप्यूटर की कार्य परिधि का. आज हम जानेगे history computer के बारेमे. जानेगे हिस्ट्री में उल्लेखित कंप्यूटर का अबिष्कारकों का नाम. जो एक नहीं बल्कि कई लोग है. और बताएँगे first generation से लेकर present generation का कंप्यूटर प्रगति का इतिहास, आज का हिंदी ब्लॉग में जिसका नाम है आप सबका subhra som.

कंप्यूटर शब्द का उत्पत्ति – Origin of the term computer

Latin Word:
Computare ➛ To Count
Com With (साथ)
Putare Reckoning (गणना)

Computer एक Latin Word का विकसित रूप है. ये शब्द, एक Latin शब्द Computare से लिया गया. इसका अर्थ है गणना या calculation करना.

दोस्तों इंग्लिश में computer के जगह पर “compute” शब्द का इस्तेमाल इतिहास में सदियों तक किया गया. फिर सं 1660 में King Charles II के ज़माने में England royal navy का प्रशासक और Member of Parliament रह चुके Samuel Pepys नाम के बेक्ति ने computing शब्द का इस्तेमाल किये. फिर 1731 में Edinburgh Weekly Journal ने अपने एक लाइन में कंप्यूटर शब्द को इस्तेमाल किया.

सं 1939 और 1942 के बीच का कोई एक समय पर एक electronic device को बनाया गया Iowa State University में. और इस machine को Computer नाम दिया गया. मशीन को बनाने बाले थे American physicist and inventor John Vincent Atanasoff.

कंप्यूटर का आविष्कारक – Inventor Of Computer

Computer को बनाने वाले कई inventors है. जिन्होंने धीरे धीरे invention को आगे बढ़ाते हुए आज का कंप्यूटर हमें उपहार दिए. पर history में पहली बार इसकी सुरुवात की Charles Babbage ने. ये एक अंग्रेजी गणितज्ञ और आविष्कारक थे. इन्होने पहली automatic digital computer बनाये. इन्हे father of computer कहा जाता है.

Computer Inventors List

Charles Babbage
(1791-1871)
Alan Turing
(1912-1954)
Konrad Zuse
(1910-1995)
John Vincent Atanasoff
(1903-1995)
John Mauchly
(1907-1980)
J. Presper Eckert
(1919-1995)
John von Neumann
(1903-1957)
Clifford Berry
(1918-1963)
Douglas Engelbart
(1925-2013)
William Shockley
(1910-1989)
Vannevar Bush
(1890-1974)
Tommy Flowers
(1905-1998)
Walter Houser Brattain
(1902-1987)
Steve WozniakArthur Burks
(1915-2008)
Robert Noyce
(1927-1990)
Howard H. Aiken
(1900-1973)
Jack Kilby
(1923-2005)
Stanley MazorVint Cerf
Marcian HoffRobert E. KahnTim Berners-LeeFederico Faggin
Paul Allen
(1953-2018)
Herman Hollerith
(1860-1929)
James Thomson
(1822-1892)
Maurice Wilkes
(1913-2010)
Harold Locke Hazen
(1901-1980
Joseph Marie Jacquard
(1752-1834)
Guido Van RossumJohn Backus
(1924-2007)
John Napier
(1550-1617)
Julius Edgar Lilienfeld
(1882-1963)
Masatoshi ShimaWilhelm Schickard
(1592-1635)
Larry PageSergey BrinRobert MetcalfeDennis Ritchie
(1941-2011)
Pier Giorgio Perotto
(1930-2002)
An Wang
(1920-1990)
William Oughtred
(1574-1660)
Phiippe Khan
Paul Baran
(1926-2011)
Leonard KleinrockDorr Felt
(1862-1930)
Charles Xaviar Thomas
(1785-1870)
Curt Herzstark
(1902-1988)
Gary Starkweather
(1938-2019)
James Gosling
Source: en.wikipedia.org

कंप्यूटर का फुल फॉर्म – Full form of computer

COMPUTER
Common Operating Machine Purposely Used for Technological and Educational Research
सामान्य ऑपरेटिंग मशीन तकनीकी और शैक्षिक अनुसंधान के लिए उपयोग की जाती है

दोस्तों ये computer का full form के हिसाब से जाना जाता है. मगर वैसे देखा जाये तो इसके आक्षरिक full form कुछ नहीं है. जैसे की आपको इस hindi blog में पता चल गया कंप्यूटर नाम का कैसे उत्पत्ति हुआ. ये नाम धीरे धीरे बिक्षित हुआ है. purposely नहीं दिया गया.

क्या आप जानते है: Primary और Secondary कंप्यूटर मेमोरी क्या है?

कंप्यूटर का इतिहास – History of computer

कंप्यूटर का इतिहास (history) को अगर पूरी तरह लिखा जाये, तो एक पूरी आर्टिकल बन जाएगी. फिरभी हम संक्षिप्त वर्णन करने का प्रयास कर रहे है.
दोसतो क्या आप Abacus के बारे में सुना है? ये था सुमेरियन सब्यता का कंप्यूटर. इसका आविष्कार लगभग 2700–2300 BC की बीच के समय पर Babylon में हुआ था. Abacus में कंकड़ से रेत में लाइन खींच कर calculation किया जाता था. आज का मॉडर्न टाइम में भी इसे इस्तेमाल किया जाता है, नाम है Abaci. जो अबेकस का updated version है. इसे ही ‘पहला कंप्यूटर’ (first computer) कहा जाता है. ये गणना के लिए सबसे उन्नत और popular method थी.

Digital Computers

1050–771 BC के मध्य में प्राचीन china में पहला mechanical computer बनाया गया. जिसमे कई gear लगा हुआ था. जो बाद में जाकर analog computer में भी इस्तेमाल होना सुरु हुआ. गियर के विकास का बाद 200 BC में device को बनाना संभव हुआ. पर ये computer नहीं बल्कि astronomy में इस्तेमाल होने लगा.

100 AD में ग्रीक(Greek) mathematician Heron of Alexandria ने odometer जैसी एक डिवाइस का बर्णन किये थे. जो automatic चलाया जा सकता था और digital form में काउंट कर सकता था. मगर ये सिर्फ एक विवरण थी. असलमे mechanical devices बनाया गया था गया था 1600 के दशक में. जो digitally count कर सकता था.

सन 1901 में Greek island Antikythera में एक जहाज के मलबे से एक analog computer को खोज निकाला गया. जिसे पहला mechanical analog computer के रूप में जाना जाता है. Mathematician और Physicist जॉन नेपियर ने 17 वीं शताब्दी की शुरुआत में logarithms की खोज की. इनमे काफी मदत हुआ computer बनाने की छेत्र में. उसी समय Charles Babbage नाम की गणितज्ञ analytical engine का डिज़ाइन को बनाये। जिसके बोहोत सरे components आज मोडेर कंप्यूटर से मिलता जुलता है. जैसे की scratch memory नाम का फीचर हुआ करता था. जो आज का RAM से मिलता है.

Personal Computer

1959 Mohamed Atalla aur Dawon Kahng ने MOS ट्रांजिस्टर का अविष्कार किये. इसका असली नाम मॉस्फेट है (metal–oxide–silicon field-effect ट्रांजिस्टर). इससे इंटीग्रेटेड सर्किट बनाने में मदत मिला. अब जमाना आने बाला था integrated circuit और उससे पर्सनल कंप्यूटर(PC) का.

1960 में microprocessor का निर्माण हुआ. और ये मुमकिन हुआ Integrated circut की मदत से. फिर आठ साल के भीतर 1968 में पहला Intel 4004 प्रोसेसर बन कर तैयार थी. ये पहला single chip microprocessor थी. जिसे Federico Faggin डेवेलोप किये. माइक्रोप्रोसेसर का अबिष्कार होने के बाद सुरु हुआ microcomputer की जमाना. जिसे आगे चलकर personal computer या P C के नाम से जाना गया.

कंप्यूटर की पीढ़ी – Computer Generation

हम कंप्यूटर की पांचवी पीढ़ी में रह रहे है. जिसमे AI-Artificial Inteligence का नाम हम सबने सुना है. ये एक ऐसा तकनीक है जिसमे computer इन्शान की brain के जैसा सोच सकता है. आपने Sophia का नाम तो सुना ही होगा. ये एक humanoid robot है. जो इन्शान जैसा सोचते है, बातें करते है.

First-generation – Vacuum tubes (1937 – 1946)

सं 1937 में Dr. John V. Atanasoff और Clifford Berry दोनों मिलकर पहला डिजिटल कंप्यूटर को बनाये. जिसे ABC की नाम से जाने जाना लगा. उसके बाद सं 1943 military के लिए Colossus नाम का इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर बनाया गया.

1946 में 30 टन वज़न का ENIAC को बनाया गया. जो पहला general computer था. इस कंप्यूटर में 1800 Vacuum tubes को processing के लिए इस्तेमाल किया जाता था. जो size में बोहोत बड़ा और भरी भरकम हुआ करता था. magnetic drum इसमें memory unit के रूप में इस्तेमाल होता था. कंप्यूटर को चलना बेहद hard था. इसमें machine language को उसे किया जाता था. और सबसे बड़ी बात है, इसमें कोई प्रोसेसर नहीं था और ये single task computer था. Example: IBM-70, ENIAC

Second-generation – Transistors (1947 – 1962)

Computer की दूसरी generation सुरु हुयी transistors का अविष्कार के बाद. इसमें vacuum tubes के जगह पर transistors का इस्तेमाल होता था. पहला commercial purpose के लिए 1951 में कंप्यूटर को पब्लिक के लिए मार्किट में उतारा गया. Example: UNIVAC I (UNIVersal Automatic Computer I)

1953 the International Business Machine (IBM) 650 and 700 series
IBM ने 1953 को 650 and 700 series के कंप्यूटर को लेकर आया.कंप्यूटर की प्रगति की इस पीढ़ी बोहोत सारे नया system computer के साथ जुड़ता गया. जैसे tape and disk, printer. इसी समय 100 कंप्यूटर programming language भी बनाया गया. इसी समय computer memory और operating systems भी ईजाद हुए.

Third-generation – Integrated Circuit (1965-1971)

ICs आविष्कार हुआ 3rd generation मैं. Integrated circuit ने transistor का जगह लिया और advanced computer को जनम दिया. एक IC में transistors, resistors, and capacitors लगा हुआ रहता था. जिससे कंप्यूटर का आकार को compact किया. साथ ही में इसे ज्यादा efficient भी बनाया.

इसी पीढ़ी ने कंप्यूटर में multi programming operating system को introduce किया गया. इसके साथ advanced features जैसे remote processing और time-sharing का भी इस्तेमाल हुआ. FORTRAN-II TO IV, COBOL, PASCAL PL/1, BASIC जैसा High-level languages का इस्तेमाल सुरु हुआ.

Fourth-generation – VLSI technology (1971 – 1980)

Microprocessor है VLSI technology का चर्चित नाम. इसका मतलब और फुलफॉर्म है Very Large Scale Integrated(बहुत बड़े पैमाने पर एकीकृत). Intel ने बनाया पहला Microprocessor. जो एक small chip में लगभग 5000 transistors को एकत्रित किया गया. जो high-level tasks को करने में सक्षम था. इसका hitech chip का electricity consumption बोहोत ही कम था.

चौथा पीढ़ी computing में कई बड़े बड़े पन्ना जोरता गया. पहला supercomputers को इसी समय बनाया गया. Personal computer or PC भी इसी पीढ़ी की देन है. C, C+, C++, DBASE जैसे computer language को इस समय इस्तेमाल किया गया.

Fifth-generation – Artificial Intelligence (1981 – present day)

पांचवी पीढ़ी में VLSI बन गया और भी powerful और बेहतर ULSI. जिसे Ultra Large Scale Integration technology, कहते है. इसमें एक microprocessor चिप में ‘दस million electronic components’ को डाला गया.

ये जमन है AI का. और कंप्यूटर में Artificial Intelligence software को इस्तेमाल इस पीढ़ी में सुरु हुआ. जो कंप्यूटर को एक ईशान जैसे सोचने का ताक़त दिया. कंप्यूटर और भी powerful and compact बन गया. Java, .Net, C++ जैसा high-level languages यूज़ होता है.

Natural language processing, Superconductor technology, Speech recognition, Quantum Calculation जैसा फीचर कंप्यूटर को miraculous technology बना दिया है. फिर भी अभी और developments आना बाकी है.

भविष्य के कंप्यूटर – future computers

Computer प्रगति की यात्रा 1937 से लेकर आज 2020 में AI technology तक आ पौछा. हर एक generation के साथ कंप्यूटर और भी efficient होते गया. और ज्यादा powerful बनते गया. और अगर आगे की तरफ देखे तो future computer और भी शानदार होने बाला है. हो सकता है भबिस्य का कंप्यूटर एक molecules का size में हर जगह पर मौजूद रहे.

Ubiquitous computing का concept पर काम चल रहा है. जो capable होगा कोईभी device पर, कोईभी location में किसीभी format में अपनेआप को ढालने में. कोई भी डिवाइस को कंप्यूटर बना देगी. Advanced नई computer technologies बनाने जा रही है Quantum computer. जिसमे शोधकर्ता उन्नति के और तेजी से आगे भी बढ़ रहे है.

DNA computers का कांसेप्ट भी रिसर्च में है. जो एक Bio computers या genetic computers के रूप में आएंगे. जिसमे एक ग्राम DNA स्टोर कर पायेगी one trillion डिस्क में जितना data समां सकता है. Photons का इस्तेमाल करके Optical Computers बनाने का भविष्य में सूची है. इतना कहा जा सकता है. future में computer ऐसा होने बाला है, जिसे अभी हम सिर्फ कल्पना ही कर सकते है.

Published by

2 thoughts on “History of Computer in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *